Atul’s Song A Day- A choice collection of Hindi Film & Non-Film Songs

Posts Tagged ‘Dil Chaahta Hai


This article is written by Nahm, a fellow enthusiast of Hindi movie music and a regular contributor to this blog. This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in other sites without the knowledge and consent of the web administrator of atulsongaday.me, then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws.

Blog Day :

4154 Post No. : 15321

As I have said in one of my recent posts, whenever I read something inspiring, be it a poem or an article, it inspires me to write something of my own thoughts. Nowadays there is less and less readable material forthcoming from the print media. The blog and its posts are sometimes savior’s for the intellect. One such article was the post by Sudhir Sir – “Gandhi Tere Desh Mein Ye Kaisa Atyachaar“, on the birth anniversary of Mahatma Gandhi.  It appeared quite late in the night, but as I read it completely, it was a thoroughly readable and thought provoking post. At least I found it thought provoking and for the next few days the matters and the quotes from the Mahatma’s books, and my own thought relating to them were reverberating in my mind. I wrote a lengthy comment on the post which I am reproducing here.

Sir,

Congratulations on writing such an extensive, studied article on Mahatma Gandhi and his philosophies. Reading it, I realised I haven’t read any of his books.  Being a Kitaabi keeda from childhood hasn’t helped me reach out to any of Mahatma’s books. Where ever I have found a bookshelf and a rack of books I tend to go through the titles and authors. In my defence, I can only say that non-fiction is not my strong case. Nevertheless, it is sad and tragic that the works of such great thinking minds are nowhere to be found in present day libraries.

The para’s you quote from his writings, about non-violence and cowardice; I dare say are the sort of philosophy which is popular as well as non-popular, depending on disparities in viewpoints.

I will quote an incident to explain what I mean. This happened in friends household. The son was playing football with his friends. A few other boys from the neighborhood, came up to one of the boy and started beating him over some fight or rivalry. All the friends including my friend’s son ran away from there. The boy came home and told the parents about this. This was just a school going kid. The father said, how can you do this, being a punjab da puttar, how could you not help your friend. The son said, if tried to help him than they will start hitting me too. Logic here, self-preservation not cowardice, the mother opined.

In the light of the above incident, the Mahatma’s point is first one will try to stop the violence by non-violence. But avoiding the situation altogether is not non- violence, but cowardice.  As opposed to valour.  The will to defend the one in difficult situation. Not just defend, but save. This is valour, opposite of cowardice.

But this is an era of “tamashbeen”.  A vast majority of public now prefers to just be a bystander and watch, rather than doing anything to stop the violence. Which neither here, nor there. This is a side kick of mass media. We are used to watching violence and it doesn’t make us flinch. A humans natural tendency to reject violence is gone. We watch it like it is a natural movie watching experience.

I believe, big cities are little better, with regards to violence of any kind. For the disruption is bigger and inconvenient. Crowd will be of various dispositions in any urban setting, someone will be a local and saner than others. Hopefully.

One more point, I would make here is about the “decay” of creation. The decay in creation is caused by impurities. The very nature of creation in mortal. What has started will end, whatever has lived will die. A natural death. Like some civilisation of the past died, due to natural calamities and became a step for newer civilisation to develop.

It is the truth which is pure. The lies added to it make it impure, and cause decadence. The civilisations that decay and then die of decadence,  rot. No new civilisation can emerge from such decayed rot.

So, we as humans, the superior among all creation, have a duty to preserve this purity in ourselves.

Regards.

I realize that the comment is just one dimensional, and could not carry the total sum of my impressions on the article.   I have said that non-fiction is not my strong case, and here I am, daily trying my hand at writing non-fiction  :).

Now I simply must quote this from the article :

It goes to establish that Gandhi was no ordinary soul, and such souls appear on this planet quite rarely. Albert Einstein has so beautifully summed it up in his tribute – “Generations to come will scarce believe that such a one as this ever in flesh and blood walked upon this earth”.

Of course I have read this quote before and this is not fiction. Another important thing he highlighted was about the discourse around ‘the relevance of the Mahatma today’.  And films like “Lage Raho Munna Bhai” were just a final stone dropped in the (already dry) pond, through the popular film media, to explain to the second generation Indians born after the end of the Gandhian era, that over dose of Gandhian philosophy like any other philosophy is also capable of creating a ‘chemical locha’ in the mental equilibrium.

May be the decay of this great civilization of homo-sapiens has started. The very nature of creation is temporary; all that exists will be destroyed one day.  The Universe may be infinite, but the only definite thing here is death. So be it, whether it is the death of a philosophy, a society or a world. The very wisdom of this species is in danger of being homogenized with its earlier extinct versions.

If one really gives deep thought about the situation the human race is facing, it feels as if the ‘Qayamat’ is truly underway.  The life we are living is like a tight rope walk of ‘pul-e-siraat‘.  One wrong step and below is hellfire. It’s that difficult to keep to the truth, obey the truth and keep faith in the truth.

But then there is a superior power, the creator, the sustainer and the nourisher of all that exists. As Allama Iqbal said :

mudda’ee laakh buraa chaahe to kya hota hai
wohi hota hai jo manzoor-e-khuda hotaa hai

So I have here a very positive kind of feel good song written by Javed Akhtar from ‘Dil Chahta Hai’ (2001).  The singer is Srinivas and composers are Shankar-Ehsan-Loy.   Yeah, the name of composers has a message in it.  I can try and translate the middle one i.e. ‘Ehsan’.

We all are familiar with word  ‘ehsaan‘ in songs like “Ehsaan Mere Dil Pe Tumhaara Hai Dosto” and “Ehsaan Tera Hoga Mujh Par“. The word ‘ehsan’ is a related word, with a change in meaning.  It means the ‘beauty of good conduct’. Or rather the beauty of best behavior.

The song I am presenting has a dream like quality with Dimple in white, Akshaye Kumar in white, and a white canvas.  The portrait of Dimple gradually develops on the canvas, while the Akshaye is dreaming on of pure water streams, dipping his hand into the stream,  full moon, in a dreamy halo of light and roshni.   In this moon light, all the colours are amalgamated to make a portrait, in which the fragrances are visibly mingling. Moon, stream, clouds, song, rain and butterflies are all in favour – in favour of the flavor of love, that is created of such different matter.  Some physical and some metaphorical matter, to make the billions and trillions of DNA that comprise this universe.

Video

Audio

Song – Kaisi Hai Ye Rut Ke Jis Mein Phool Ban Ke Dil Khile (Dil Chaahta Hai) (2001) Singer – Srinivas, Lyrics – Javed Akhtar, MD – Shankar-Ehsan-Loy

Lyrics

kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile. . .

kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile
ghul rahe hain rang saare
ghul rahi hain khushbooen
chaandni jharne ghataayen
geet baarish titliyaan
hum pe ho gaye hain
sab meherbaan
kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile

dekho
nadi ke kinaare
panchhi pukaare..ea
kisi panchhi ko
dekho
ye jo nadi hai
milne chali hai..ea
saagar hi ko
ye pyaar ka hi
saara hai kaarwaan
kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile

ho ooo
kaise
kisi ko bataayen
kaise ye samjhaayen..en
kya pyaar hai
iss mein
bandhan nahin hai
aur na koi bhi
deewar hai
suno pyaar ki niraali
hai daastaan
kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile
ghul rahe hain rang saare
ghul rahi hain khushbooen
chaandni jharne ghataayen
geet baarish titliyaan
hum pe ho gaye hain
sab meherbaan

kaisi hai ye rut ke jis mein
phool ban ke dil khile
hnmnmnmnm
hmnmnmnmnmn
hnmnmnmnm
hmnmnmnmnmn
hnmnmnmnm
hmnmnmnmnmn
hnmnmnmnm
hmnmnmnmnmn

———————————————————-
Hindi script lyrics (Provided by Nahm)
———————————————————-

कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले॰ ॰ ॰

कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले
घुल रहे हैं रंग सारे
घुल रही हैं खुशबूएं
चाँदनी झरने घटाएँ
गीत बारिश तितलियाँ
हम पे हो गए हैं
सब मेहेरबाँ
कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले

देखो
नदी के किनारे
पंछी पुकारे॰॰ऐ
किसी पंछी को
देखो
ये जो नदी है
मिलने चली है॰॰ऐ
सागर ही को
ये प्यार का ही सारा
है कारवां
कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले

हो॰ ॰ ॰
कैसे
किसी को बताएं
कैसे ये समझाएँ॰॰ऐं
क्या प्यार है
इसमें
बंधन नहीं है
और न कोई भी॰॰ई
दीवार है
सुनो प्यार की निराली
है दास्ताँ
कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले
घुल रहे हैं रंग सारे
घुल रही हैं खुशबूएं
चाँदनी झरने घटाएँ
गीत बारिश तितलियाँ
हम पे हो गए हैं
सब मेहेरबाँ

कैसी है ये रुत के जिस में
फूल बन के दिल खिले
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न
हम्म ह्म म्न हम्न


This article is written by Sudhir, a fellow enthusiast of Hindi movie music and a regular contributor to this blog. This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws.

Blog Day : 3673 Post No. : 14559

ASAD 10th Anniversary Celebrations – 19
———————————————————————

मिले ना फूल
तो काँटों से दोस्ती कर ली॰ ॰ ॰

दस बरस पहले, एक सफर शुरू हुआ – एक सफर जिसका कुछ भी नियत नहीं था, कुछ निश्चित प्रयोजन नहीं था, कुछ आशा भी नहीं थी के ये सिलसिला जाने कब तक चले। बस सिर्फ एक धुन, और एक नग़मा – ले चला जिधर ये दिल निकल पड़े।

और साथ ये भी कह दिया कि मंज़िल कहाँ कहाँ रुकना है ऊपर वाला जाने॰ ॰ ॰

कुछ मालूम नहीं था ये सफर क्या शक्ल हासिल करेगा। क्या कोई हमसफर मिलेगा? मालूम नहीं, ये सोचा भी था के नहीं। लेकिन फिर भी क्या॰॰॰ एक ज़िंदगी का तार पकड़ कर चल दिये। और सोचा यूं कि चलते चलो चलता हुआ साहिल है ज़िंदगी। ये तो अच्छा किया कि दूर की सोची नहीं। अब तीन साल में क्या हो या पाँच सात साल में क्या होगा ऐसी हर फिक्र को धुएँ में उड़ाते हुये, बस एक दिन और एक गीत – इस क्रम पे चलना शुरू किया।

कहते हैं, जब कर्म और विचार में खोट नहीं, तो प्रकृति, दिशाएँ, तत्व, देव – सब कुछ ही साथ हो संबल देते है।  दस साल पहले जो सफर अकेले ही शुरू हुआ था, आज इन दस साल के बाद अब इसकी गिनती करोड़ों में होती है।  क्रम नहीं बदला, नीयत नहीं बदली – जो बदला वो बस यही के लोग साथ आते गये और कारवां बढ़ता गया।

दस साल बाद भी, आज कोई पूछे तो जवाब नहीं बदला – ये हँसता हुआ कारवां ज़िंदगी का न पूछो चला है किधर॰॰॰।

कितने पड़ाव आए और गुज़र गये, कितने ही मील पत्थर रास्ते में मिले और नज़रों से ओझल हुये।  इस सफर में हम कहाँ कहाँ से गुज़र गये – देस भी घूमा, दुनिया भी घूमी; सागर, नदियां, पर्वत, वादियाँ, जंगल और सैहरा, रास्ते और गलियाँ, पनघट और खलिहान, बाज़ार भी, मेले भी और अकेले भी – सब कोने छू लिए। कभी रेल में, तो कभी मोटर कार में, कभी घोड़े कि टापों के संग, तो कभी रिक्शे में। कभी बैल कि गाड़ी में घूमे, तो कभी तांगे के हिचकोले खाये। कशतियों में कभी झीलों का झरोखा, और कभी जहाज़ में समुद्र का दीदार किया। साइकल की सैर भी की, और कभी प्लेन से सारी धरती को देखा। और तो और, क्रेन, ट्रक और ट्रैक्टर को भी नहीं छोड़ा।

कभी हरी दर्शन को तड़पते मन देखे, कभी मदीने की दुआएं मांगी।  कभी बंजारों के गीत सुने, और तो फिर कभी सूफी के कलाम। बुद्ध कि शरण में गये तो कभी येशु के दर पे सर झुकाया। कभी सृष्टि के चित्रकार को ढूँढा, और कभी कर्म गति की शिक्षा सुनी। कभी शुक्राने फरमाए उस खुदा की बंदगी में, तो कभी ज़िंदगी से ऊब कर उसे खूब खरी खोटी भी सुनाई।

कभी किसी नाज़नीं से लहंगे कि फरमाइश सुनी, और कभी प्रेमी कि ज़ुबान से चाँद कि उपमाएँ। कभी बरसात ने दिल लुभाया, तो कभी बात बात में मैंने दिल तुझको दिया। कभी गर्मी की धूप से बचने की सलाह देखी, तो कभी बर्फ की सर्दी को दिल की आंच से कम होते देखा।

गोद में बच्चों को सुलाते हुये माँ कि लोरियाँ सुनी, तो कभी बच्चों से माँ के आँचल कि पुकार। नग़में सुने दोस्ती के और ग़ज़लें सुनी इश्क़ की।  मोहब्बत के जलवों से रोशन जन्नत के नज़ारे किए, तो कभी टूटे दिल के नालों ने हमें भी रुलाया।

कभी दिल मचला और झूम के गा उठा – किसान अपनी फसल देख के, फौजी छुट्टी पर घर जाते हुये, इक जवान दिल इश्क़ का इक़रार पा कर, और तो कभी बस इस कायनात की खूबसूरती पर।

कभी दिल रोया और रो कर गाया – भीख मांगते हुये बच्चे, कोई बिछड़ कर जाने लगा, कभी मोहब्बत के धोखे उठाए, और तो कभी किस्मत के थपेड़ों की शिकायत में।

कभी एक चोर की कहानी सुनी, कभी बिक्री वालों से उनकी उम्दा दलीलें सुनी, कभी मेहनतकशों की प्रेरणा भा गई, और तो कभी सड़क पे तमाशों के नज़ारे किए।

हुस्न की जल्वानुमाई देखि, तो कभी हुस्न के एहसान; कभी हुस्न की संगदिली ज़ाहिर हुई, तो कभी सिर्फ शिकवों का ज़िक्र हुआ। फ़लक पे सूरज चाँद और तारों की कहानी सुनी, तो कभी शराब की मस्ती शराबी की जुबानी सुनी।

फूलों से किसी कमसिन के चेहरे को मुक़ाबिल देखा, तो कभी किसी अल्हड़ की लापरवाह चाल से झरनों की उपमा हुई।

कसमें वादे होते देखे साँसों की हद तक, और कभी टूटे वादों के साथ दिल के टुकड़े बिखरते देखे।

कोई जश्न का मौका छूटा नहीं, कोई नाम अछूता रहा नहीं।

कभी धरती और देश के झंडे से बुलंद हुये, तो कभी इंसानी ज़ुल्म से हताश।

कभी शहीदों की कहानियाँ पलटीं, तो कभी भली आत्माओं का दर्शन किया।

सुख की घड़ियाँ, दुख के बादल; हंसी के लम्हे, आँसू की ढलकन; मिलने की खुशी, ना मिलने का ग़म; प्यार का झगड़ा, बेवफाई के ज़ख्म; बारात का बाजा, दिल का राजा; मंदिर का दीपक, खुदा से दुआएं; रिश्तों की संवेदना, और साथ ही वेदना; प्यार का फलसफा, और ज़िंदगी की तालीम।

कभी वो गीत में, कभी नज़्म में, कभी ग़ज़ल में, तो कभी भजन में, कभी ट्विस्ट में तो कभी डिस्को में; कभी क़व्वाली में, तो कभी सहगान में; कभी कविता जैसी लगी, तो कभी कथा जैसी; कभी तुम्हारी छवि दिखी, कभी उसकी; और तो ज़्यादा कहानी अपनी सी लगी।

दस साल। दस साल और पन्द्रह हज़ार उमंगें। रोज़ की नई नवेली। कभी लगता भी है कि पहले सुना था, लेकिन फिर भी लगता है नया सा। कितने सारे भावों की बरसात हुई है, क्या बेशुमार दौलत मिली है – दस साल में। नायाब खजाना है। और सोचो तो, शुरू कहाँ से किया था – “॰॰॰काँटों से दोस्ती कर ली॰॰॰”। मुनासिब ही तो है, ये दौलत काँटों से गुज़र के ही पाते हैं। और तमन्नाएं॰॰॰ उनका तो कहना ही क्या। कुछ मिल जाये, इसकी तो फिक्र कभी थी ही नहीं। बस एक ही बात, एक ही लगन॰॰॰ दिल चाहता है॰॰॰  साथ चलते रहें हम न बीते कभी ये सफर॰॰॰

जी हाँ, दिल चाहता है। जब एक गाना ढूंढ रहा था इस जश्न के लिए, तो मन बहुत घूमने के बाद इस बात पे ठहरा कि एक सफरनामा होना चाहिए, एक गाना जिस में बस सफर हो, कोई मंज़िल न हो। जिसमें बस हमख्यालों का दख़ल हो। जो सब मेरे हमकदम हों, मेरे हमनशीं, मेरे हमज़ुबाँ हों। अपनी यादों और आदतों से वहीं ढूँढता रहा साठ और सत्तर से पहले। इत्तेफाक़ देखिये, मिला तो बखूबी वही जो दिल चाहता है। हाँ ‘दिल चाहता है’ – फिल्म भी वही और नग़मा भी वही। 2001 में जारी हुई ये फिल्म मेंने उन्हीं दिनों में अपने सफरगुज़ारी के दौरान देखी। न जाने क्यों, इस फिल्म से मोहब्बत हो गई। और खास कर के इस गाने से। हल्की सी मस्ती की लहर में हल्का सा ढुलकता सा गाना, सुस्ताता हुआ, आलसी सा गाना, धीरे धीरे बहता जैसे बहार में सुबह कि मीठी सी सबा॰॰॰ लापरवाही में एक प्रतिबिम्बित चिंतन॰॰॰ गाना तो ऐसे मन को भाया के बस।

दिल चाहता है
कभी ना बीतें॰॰॰   चमकीले दिन
दिल चाहता है
हम ना रहें कभी॰॰॰ यारों के बिन

होता है ना कभी कभी ऐसे ही। कुछ ऐसा कहा जाता है दो लफ्जों में, के और कुछ कहने की कसर बाकी रहती नहीं। जो बात मन की है, वो बस इतनी ही मुकम्मल है, जो ऊपर लिखे मिसरों में ब्याँ हो गई – तमन्ना है ये साथ चलते रहें हम न बीते कभी ये सफर॰॰॰

और कुछ कहना वाजिब नहीं।

इस फिल्म के ज़्यादातर किरदारों को पहली बार देखा था। बहुत सालों बाद एक हिन्दी फिल्म देखी थी शायद। मन को जम गई। 🙂

गीत जावेद अख्तर का लिखा है, संगीत बद्ध किया शंकर-एहसान-लोय कि तिकड़ी ने। गाने वाली आवाज़ शंकर महादेवन की है। स्क्रीन पर ये गाना बैक्ग्राउण्ड में फिल्माया गया। और क्या असरदार फिल्माया गया। गीत ही गीत सुनता है, बाकी सब खामोशी है। एक तुष्टि की, एक पूर्णता की खामोशी है। एक खुशी भरी सुस्ती की खामोशी है॰॰॰ जो दिल चाहता है वो मुझे मिला है॰॰॰ ऐसी खामोशी है

कभी ना बीतें॰॰॰   चमकीले दिन
हम ना रहें कभी॰॰॰ यारों के बिन

दस बरस, फिर एक और दस बरस, फिर एक और दस बरस॰॰॰ सिलसिलेवार

कभी ना बीतें॰॰॰   चमकीले दिन
हम ना रहें कभी॰॰॰ यारों के बिन

[Author’s Note: Apologies due on many counts, including the sudden and surprising change in the presentation language above. The writing started and then I just couldn’t stop the flow. And so I let it flow. In case there are requests, I can add the English translation also. Regarding the gap in celebration sequence, that story is coming up tomorrow. 🙂 ]

Song – Dil Chaahta Hai (Dil Chaahta Hai) (2001) Singer – Shankar Mahadevan, Lyrics – Javed Akhtar, MD – Shankar-Ehsaan-Loy
Chorus

Lyrics

dil chaahta hai

dil chaahta hai

dil chaahta hai
kabhi na beeten
chamkeele din
dil chaahta hai
hum na rahen kabhi yaaron ke bin
din din bhar hon
pyaari baaten
jhoomen shaamen
gaayen raaten
masti mein rahe dooba dooba hamesha samaa
hum ko raahon mein yun hi milti rahen khushiyaan
dil chaahta hai
kabhi na beeten
chamkeele din
dil chaahta hai
hum na rahen kabhi yaaron ke bin

jagmagaate hain
jhilmilaate hain apne raaste
ye khushi rahe
roshni rahe
apne waaste
jagmagaate hain
jhilmilaate hain apne raaste
ye khushi rahe
roshni rahe
apne waaste

oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo

jahaan rukey hum
jahaan bhi jaayen
jo hum chaahen
wo hum paayen
masti mein rahe dooba dooba hamesha samaa
hum ko raahon mein yun hi milti rahen khushiyaan

dil chaahta hai

dil chaahta hai

dil chaahta hai

dil chaahta hai

dil chaahta hai

kaisa ajab ye safar hai
socho to har-ek hi bekhabar hai
us ko jaana kidhar hai
jo waqt aaye
jaane
kya dikhaaye

oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo

dil chaahta hai
kabhi na beeten
chamkeele din
haan haan
dil chaahta hai
hum na rahen kabhi yaaron ke bin
din din bhar hon pyaari baaten
jhoomen shaamen
gaayen raaten
masti mein rahe dooba dooba hamesha samaa
hum ko raahon mein yun hi milti rahen khushiyaan
jagmagaate hain
jhilmilaate hain apne raaste
ye khushi rahe
roshni rahe
apne waaste
jagmagaate hain
jhilmilaate hain apne raaste
ye khushi rahe
roshni rahe
apne waaste

oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
(dil chaahta hai)
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
(dil chaahta hai)
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo
(dil chaahta hai)
oo oo ooo
ooo ooo oo ooo ooo ooo

dil chaahta hai

———————————————————
Hindi script lyrics (Provided by Sudhir)
———————————————————

दिल चाहता है

दिल चाहता है

दिल चाहता है
कभी ना बीतें
चमकीले दिन
दिल चाहता है
हम ना रहें कभी यारों के बिन
दिन दिन भर हों
प्यारी बातें
झूमें शामें
गायें रातें
मस्ती में रहे डूबा डूबा हमेशा समां
हम को राहों में यूं ही मिलती रहें खुशियाँ
दिल चाहता है
कभी ना बीतें
चमकीले दिन
दिल चाहता है
हम ना रहें कभी यारों के बिन

जगमगाते हैं
झिलमिलाते हैं अपने रास्ते
ये खुशी रहे
रोशनी रहे
अपने वास्ते
जगमगाते हैं
झिलमिलाते हैं अपने रास्ते
ये खुशी रहे
रोशनी रहे
अपने वास्ते

ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss

दिल चाहता है

दिल चाहता है

दिल चाहता है
जहाँ रुकें हम
जहाँ भी जाएँ
जो हम चाहें
वो हम पाएँ
मस्ती में रहे डूबा डूबा हमेशा समां
हम को राहों में यूं ही मिलती रहें खुशियाँ

दिल चाहता है

दिल चाहता है

दिल चाहता है

दिल चाहता है

दिल चाहता है

कैसा अजब ये सफर है
सोचो तो हर एक ही बेखबर है
उस को जाना किधर है
जो वक़्त आए
जाने
क्या दिखाये

ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss

दिल चाहता है
कभी ना बीतें
चमकीले दिन
हाँ हाँ
दिल चाहता है
हम ना रहें कभी यारों के बिन
दिन दिन भर हों
प्यारी बातें
झूमें शामें
गायें रातें
मस्ती में रहे डूबा डूबा हमेशा समां
हम को राहों में यूं ही मिलती रहें खुशियाँ
जगमगाते हैं
झिलमिलाते हैं अपने रास्ते
ये खुशी रहे
रोशनी रहे
अपने वास्ते
जगमगाते हैं
झिलमिलाते हैं अपने रास्ते
ये खुशी रहे
रोशनी रहे
अपने वास्ते

ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
(दिल चाहता है)
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
(दिल चाहता है)
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss
(दिल चाहता है)
ओ ओ ओss
ओss ओss ओ ओss ओss ओss

दिल चाहता है


Important Announcement

(© 2008 - 2019) atulsongaday.me The content of this site is copyrighted and it may not be reproduced elsewhere without prior consent from the site/ author of the content.

What is this blog all about

This blog discusses Bollywood songs of yesteryears. Every song has a brief description, followed by a video link, and complete lyrics of the song.

This is a labour of love, where “new” songs are added every day, and that has been the case for over ELEVEN years. This blog has more than 15300 song posts by now.

This blog is active and online for over 4000 days since its beginning on 19 july 2008.

Total number of songs posts discussed

15328

Number of movies covered in the blog

Movies with all their songs covered =1180
Total Number of movies covered =4222

Total visits so far

  • 12,695,277 hits

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 1,804 other followers

Bookmark

Bookmark and Share

Category of songs

Current Visitors

Archives

Stumble

visitors whereabouts

blogcatalog

Music Blogs - BlogCatalog Blog Directory

blogadda

Historical dates

Blog Start date: 19 july 2008

Active for more than 4000 days.

%d bloggers like this: